Tuesday, 21 May 2019

Exit Poll के बाद एमपी में क्यों मचा सियासी घमासान, क्या बदलेगी सत्ता?

ad300
Advertisement

Exit Poll के बाद एमपी में क्यों मचा सियासी घमासान, क्या बदलेगी सत्ता?

लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल में बीजेपी की बहुमत से जीत के अनुमान ने मध्य प्रदेश की सियासत गरमा दी है. 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में कुछ ही सीटों के अंतर से सत्ता पाने से चूकी बीजेपी अब फिर से सियासी कसरत में जुट गई है. राज्य में सत्ता के नए समीकरण उभरने के संकेत मिलने लगे हैं. एग्जिट पोल के नतीजों से उत्साहित  बीजेपी ने जहां फ्लोर टेस्ट की मांग कर दी है. वहीं कांग्रेस नेताओं ने अपने विधायकों को बीजेपी से ऑफर मिलने की बात कहकर हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाया है.
दरअसल, राज्य में बीजेपी की सत्ता परिवर्तन की कोशिशों को बल तब मिला, जब एग्जिट पोल के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने दो टूक कह दिया कि कमलनाथ सरकार 22 दिनों से अधिक नहीं चलने वाली. इससे माना जा रहा है कि अगर 23 मई को नतीजे बीजेपी के पक्ष में आते हैं तो फिर कमलनाथ सरकार के लिए मुसीबत खड़ी हो सकती है. क्योंकि कमलनाथ सरकार के सामने बहुमत साबित करने की चुनौती होगी. आज तक-एक्सिस माइ इंडिया के एग्जिट पोल में मध्य प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों में से बीजेपी को 26 से 28 और कांग्रेस को 1 से 3 सीटें मिलने का अनुमान है.
खतरे के निशान पर है कांग्रेस
मध्य प्रदेश की 230 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के पास 114 विधायक हैं. कमलनाथ सरकार बसपा के दो, सपा के एक और 4 निर्दलीय विधायकों के समर्थन से किसी तरह चल रही है. कमलनाथ सरकार को जहां 121 विधायकों का समर्थन हासिल है, वहीं बीजेपी के पास 109 विधायक हैं. हालांकि मुख्यमंत्री कमलनाथ का दावा है कि उनके पास बहुमत है और उनकी सरकार पूर्व में कई मौकों पर यह साबित भी कर चुकी है. कांग्रेस नेता बीजेपी पर ख्याली पुलाव पकाने का आरोप लगाते हैं.
बीजेपी ने बढ़ाई धड़कनें
एग्जिट पोल के नतीजे आने के बाद नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने राज्यपाल को पत्र लिखकर विधानसभा सत्र बुलाकर फ्लोर टेस्ट पर विचार की मांग की है. माना जा रहा है कि बीजेपी को पूरा भरोसा है कि कमलनाथ सरकार अल्पमत में चल रही है. क्योंकि इस वक्त कमलनाथ सरकार से कई विधायक असंतुष्ट चल रहे हैं. कांग्रेस के पांच विधायक मंत्री न बनने के कारण असंतुष्ट हैं. सूत्रों की मानें तो ये विधायक लोकसभा चुनाव के दौरान अमित शाह से भी मुलाकात कर चुके हैं. यह भी कहा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत के बाद बसपा और सपा के विधायक भी पाला बदलकर बीजेपी के साथ आ सकते हैं. ऐसे में बीजेपी फ्लोर टेस्ट का दांव चलकर कमलनाथ सरकार को सत्ता से बाहर करने की कोशिश में है. सूत्र बता रहे हैं कि जोड़तोड़ की स्थिति में विधायकों की खरीद-फरोख्त की कोशिशें भी हो सकतीं हैं.
Share This
Previous Post
Next Post

Pellentesque vitae lectus in mauris sollicitudin ornare sit amet eget ligula. Donec pharetra, arcu eu consectetur semper, est nulla sodales risus, vel efficitur orci justo quis tellus. Phasellus sit amet est pharetra

0 Comments: